हरि के द्धार

श्रीमद्भागवत पुराण हिन्दू समाज का सर्वाधिक आदरणीय पुराण है। यह वैष्णव सम्प्रदाय का प्रमुख ग्रन्थ है। इस ग्रन्थ में वेदों, उपनिषदों तथा दर्शन शास्त्र के गूढ़ एवं रहस्यमय विषयों को अत्यन्त सरलता के साथ निरूपित किया गया है। इसे भारतीय धर्म और संस्कृति का विश्वकोष कहना अधिक समीचीन होगा। सैकड़ों वर्षों से यह पुराण हिन्दू समाज की धार्मिक, सामाजिक और लौकिक मर्यादाओं की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता आ रहा हैं।
आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि कलयुग में क्या-क्या घटित होगा इसकी भविष्यवाणी भागवत पुराण में बहुत पहले कर दी गई थी तो आइए जानें क्या भविष्यवाणी की गई थी कलयुग के बारे में।
१.धर्म, सत्यवादिता, स्वच्छता, सहिष्णुता, दया, जीवन की अवधि, शारीरिक शक्ति और स्मृति सभी दिन-ब-दिन घटती जाएगी।
२.कलयुग में जिस व्यक्ति के पास जितना धन होगा वो उतना गुणी माना जाएगा और कानून, न्याय केवल एक शक्ति के आधार पर लागू किया जाएगा।
३.इस युग में पुरूष और स्त्री साथ-साथ रहेंगे और व्यापार में सफलता छल पर निर्भर करेगा।
४.पहले के समय में जो ब्राह्मण रहते थे वो अपने शरीर पर बहुत कुछ धारण करते थे पर कलयुग में वे लोग सिर्फ एक धागा पहनकर अपने को ब्राह्मण होने का दावा करेंगे।
५.जो व्यक्ति बहुत चालाक और स्वार्थी होगा वो इस युग में बहुत विद्वान माना जाएगा ।
६.इस युग में जिस व्यक्ति के पास धन नहीं होगा वो अधर्मी, अपवित्र और बेकार माना जाएगा।
७.विवाह बस एक समझौता होगा दो लोगों के बीच।
८.लोग बस स्नान करके समझेंगे की वो अंतरआत्मा से भी साफ सुथरे हो गए है ।
९.पेट भरना लोगों का लक्ष्य हो जाएगा।
१०.ऐसा माना जाएगा कि मनुष्य की सुंदरता उसके बालों से होगी।
११.पृथ्वी भ्रष्ट लोगों से भर जाएगी और लोग सत्ता हासिल करने के लिए एक दूसरे को मारेंगे।
१२.ठंड, हवा, गर्मी, बारिश और बर्फ यह सब लोगों को बहुत परेशान करेंगे।