अयोध्या विवाद पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को मध्यस्थता के लिए भेज दिया। अयोध्या मामले की मध्यस्थता के लिए सुप्रीम कोर्ट ने रिटायर्ड जस्टिस खलीफुल्ला की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय पैनल का गठन किया है। इस पैनल में जस्टिस खलीफुल्ला (रिटायर्ड) के अलावा आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर और श्रीराम पंचु भी शामिल हैं। वहीं, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को आश्चर्यजनक बताया है।संघ ने कहा कि न्याय प्रणाली का पूरा सम्मान करते हुए, हम कहना चाहेंगे कि विवाद पर फैसला जल्द होना चाहिए और मंदिर निर्माण में आने वाली बाधाओं को दूर करना चाहिए। अयोध्या विवाद के अलावा आएसएस ने सबरीमाला मंदिर पर कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने यह निर्णय विभिन्न महिलाओं के मतों पर विचार किए बिना लिया। सुप्रीम कोर्ट के फैसले की आड़ में केरल सरकार हिंदुओं पर ज्यादती कर रही है।