कोरोना संक्रमण के कारण मारे गए कोलकाता से सटे बेलघरिया के निवासी के अंतिम संस्कार को लेकर कोलकाता में गत दिनों जोरदार हंगामा हुआ। नगर निगम कोलकाता की ओर से संक्रमण से मारे गए लोगों के दाह संस्कार के लिए धापा में तैयार किए गए विद्युत शवदाहगृह के आसपास के लोगों ने संक्रमण फैलने की आशंका जताते हुए सडक़ों पर प्रदर्शन शुरू कर दिया।
स्थानीय पुलिस की तमाम कोशिशों के बावजूद स्थानीय लोग अंतिम संस्कार अन्यत्र करने की मांग पर अड़े रहे। पुलिस ने उन्हें समझाने की कोशिश की कि शवदाह की प्रक्रिया तय प्रोटोकाल मान कर की जाएगी। संक्रमण की आशंका नहीं है। इसके बावजूद लोगों ने प्रदर्शन नहीं बंद किया।
कोलकाता पुलिस मुख्यालय को सूचित किया गया। आला पुलिस अधिकारी बड़ी तादाद में पुलिस बल के साथ पहुंचे पर स्थानीय लोगों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस कोरोना संक्रमित का शव लेकर नीमतल्ला घाट ले आई।
गौरतलब है कि इससे पहले भी राज्य में कोरोना संक्रमण से मारे गए मरीज के दाह संस्कार को लेकर बवाल हुआ था। 23 मार्च को नीमतल्ला घाट पर अंतिम संस्कार के लिए लाए गए शव को देखकर स्थानीय लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया था। काफी मशक्कत के बाद पुलिस के हस्तक्षेप से अंतिम संस्कार हो पाया था। बताते चलेगी नगर निगम ने कोरोना संक्रमण से मारे गए लोगो के अंतिम संस्कार के लिए धापा में विद्युत चलित दो शवदाह गृह तैयार किए हैं। वहीं मुसलमानों के लिए बाघमारी में कब्रिस्तान तैयार किया है।