राजस्थान चुनाव में जिस तरह से भाजपा ने टोंक विधानसभा सीट से यूनुस खान को मैदान में उतारा है, वह इस चुनाव का सबसे निर्णायक फैसला साबित होने वाला है।दरअसल टोंक मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र है ऐसे में माना जा रहा है कि यूनुस खान यहां बड़ा पलटफेर कर सकते हैं। सचिन पायलट की सबसे बड़ी मुश्किल ये है कि पहले वह चुनाव लड़ना नहीं चाहते थे और अब पार्टी ने उन्हें मैदान में उतारा है तो उनके सामने भाजपा ने ऐसा उम्मीदवार उतारा है जिसके सामने सचिन पायलट की चुनौती काफी बढ़ गई है।एक तरफ जहां कयास लगाए जा रहे हैं कि सचिन पायलट कांग्रेस के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हो सकते हैं, तो दूसरी तरफ उन्हें ऐसी चुनौती मिल रही है जहां उनका चुनाव जीत पाना आसान नहीं लग रहा है।ऐसे में सचिन पायलट के लिए यहां से चुनाव जीतना इसलिए भी काफी मुश्किल है क्योंकि यूनुस लोगों में काफी लोकप्रिय हैं और टोंक में मुस्लिम आबादी अधिक है।लेकिन अगर सचिन पायलट को कांग्रेस इस चुनाव में बेहतर स्थिति में देखना चाहती है तो वह कोशिश करेगी कि अधिक से अधिक निर्दलीय उम्मीदवार मैदान में उतरे, जिससे कि यूनुस खान का वोट कटे और इसका सीधा फायदा सचिन पायलट को हो।लेकिन अगर इन सब के बावजूद अगर पायलट चुनाव में हारते हैं तो और कांग्रेस को जीत मिलती है तो यह पार्टी लिए सबसे बड़ा झटका होगा कि उनका संभावित सीएम उम्मीदवार चुनाव हार गया। यही नहीं सचिन पायलट जैसे दिग्गज नेता के लिए 2019 की राह भी काफी मुश्किल हो सकती है।