मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस के रेड जोन में भी तीन अलग-अलग जोन बनेंगे। इससे लोगों को कुछ राहत दी जाएगी। रेड जोन में तीन जोन ए, बी, सी के तहत छूट पर विचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि नई छूट 21 मई से लागू होंगी। बता दें कि राज्य सरकार कोरोना वायरस से निपटने के लिए अब शॉर्ट टर्म, मिड टर्म और लॉंग टर्म श्रेणियों में काम करेगी।

सीएम ममता ने कहा की रेड जोन में आने वाले ‘ए’ जोन मतलब अधिक संक्रमित क्षेत्र में फिल्हाल कुछ भी अनुमति नहीं दी जाएगी। वहीं ‘बी’ जोन मतलब कम संक्रमित क्षेत्र में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ कुछ छूट दी जाएगी। जबकि ‘सी’ जोन मतलब बिना बैरिकेडिंग वाले क्षेत्रों में कुछ छूट रहेगी। ममता की इस घोषणा के बाद रेड जोन में रह रहे लोगों को कुछ राहत मिलेगी, क्योंकि कई दिनों से इन क्षेत्रों में काफी कड़ाई चल रही है। सिर्फ कोलकाता में रेड जोन के अन्तर्गत 340 कंटेनमेंट जोन हैं।

मंगलवार को मुख्यमंत्री ने कहा कि अब आलूचप, पकौड़ी आदि दुकानें भी खुलेंगी, लेकिन पैकेज सिस्टम से खरीदना होगा। चाय, पान-सिगरेट, गुटखा दुकानों को पहले से ही छूट है। बीड़ी उत्पादक और चाय बागानों में अब 50 प्रतिशत मजदूरों की उपस्थिति की मंजूरी है। सीएम ने कहा कि ज्वैलरी, इलेक्ट्रिक, इलेक्ट्रानिक्स, मोबाइल सर्विस की दुकानें खोली जा सकती हैं। फिल्म स्टूडियो में एडिटिंग, डबिंग की छूट, लेकिन शूटिंग अभी नहीं।

इसके पहले एक बार फिर से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को केन्द्र पर जमकर हमला बोला। ममता बनर्जी ने केंद्र पर वंचित करने का आरोप लगाया है। मंगलवार को राज्य सचिवालय नवान्न में वह संवाददाताओं को संबोधित कर रही थीं। इस दौरान उन्होंने कहा कि केन्द्र व नरेन्द्र मोदी के साथ बैठक करके कुछ भी हासिल नहीं होता है। अब तक खाली ही लौटना पड़ा है।

मुख्यमंत्री ममता ने कहा कि कोरोना वायरस के चलते लोगों के रोजगार खत्म होते जा रहे हैं। यह एक गंभीर स्थिति है। उन्होंने कहा कि कोरोना था, है, रहेगा, इसलिए अब संभल कर चलना ही होगा। जीवन और जीविका दोनों बचाना जरूरी है।