प.बंगाल सरकार ने कोरोना वायरस के खतरे से निपटने के लिए रेड जोन को लेकर एक बड़ा फैसला किया है। अब यदि किसी क्षेत्र में कोई कोरोना संक्रमित पाया जाता है तो उस पूरे क्षेत्र को रेड जोन में तब्दील नहीं किया जाएगा। केवल संक्रमित मरीज का मकान ही रेड जोन में तब्दील किया जाएगा।

बता दें कि अब तक जिस क्षेत्र में कोरोना का मरीज मिलता था, उसके आसपास के क्षेत्र को रेड जोन में डाल दिया जाता था और बैरिकेडिंग कर दी जाती थी। लेकिन अब जिस मकान के निवासी में कोरोना संक्रमण पाया जाएगा, सिर्फ उसी मकान को रेड जोन में माना जाएगा और निकटवर्ती क्षेत्र में सिर्फ सतर्कता बरती जाएगी। दरअसल पुलिस, निगम और स्वास्थ्य विभाग की बैठक के बाद यह फैसला लिया गया है।

बता दें कि यदि संक्रमित व्यक्ति के मकान से पास वाला मकान एकदम सटा हुआ होगा तो उसे भी रेड जोन में रखा जाएगा, लेकिन यदि कुछ दूरी पर मकान है तो उसे रेड जोन से बाहर माना जाएगा।

उल्लेखनीय है कि कोलकाता महानगर में वर्तमान में 113 वार्ड के 340 क्षेत्र कंटेनमेंट जोन में, 274 रेड जोन में, 66 ओरेंज जोन में हैं। रेड जोन को लेकर नयी नीति बनाने के लिए बुधवार को नगर निगम में हुई बैठक में यह फैसला लिया गया।